न्यूज़ हेडलाइंस Post

Followers

यह ब्लॉग समर्पित है!

"संत श्री 1008 श्री खेतेश्वर महाराज" एवं " दुनिया भर में रहने वाले राजपुरोहित समाज को यह वेबसाइट समर्पित है" इसमें आपका स्वागत है और साथ ही इस वेबसाइट में राजपुरोहित समाज की धार्मिक, सांस्‍क्रतिक और सामाजिक न्‍यूज या प्रोग्राम की फोटो और विडियो को यहाँ प्रकाशित की जाएगी ! और मैने सभी राजपुरोहित समाज के लोगो को एकीकृत करने का ऐसा विचार किया है ताकि आप सभी को राजपुरोहित समाज के लोगो को खोजने में सुविधा हो सके! आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं तो फिर तैयार हो जाईये! "हमारे किसी भी वेबसाइट पर आपका हमेशा स्वागत है!"
वेबसाइट व्यवस्थापक सवाई सिंह राजपुरोहित-आगरा{सदस्य} सुगना फाऊंडेशन-मेघलासिया जोधपुर 09286464911

न्यूज़ हेडलाइंस

न्यूज़ हेडलाइंस LATEST: Sawai Singh Rajpurohit

2.10.12

श्री श्री 1008 श्री शांतिनाथ जी महाराज आज ब्रह्मलीन हो गये ...

  श्री श्री 1008 श्री शांतिनाथ जी महाराज कल रात 2 AM बजे ब्रह्मलीन हुए है और लोग उनके अंतिम दर्शन के लिए कल रात से खड़े है आज पूरा जालौर बंद सा है पुरे रोड पर जाम है यहाँ तक की चिकित्सालय से तिलक द्वार तक श्रद्धालुओ की बड़ी लभी लाइन लगी हुई है पिछले कुछ समय से अस्वस्थ थे। सोमवार रात को आखरी सांस ली पूरे जालौर जिले में शोक की लहर जालौर जिले भर में जन जन के आराध्य और भैरुनाथ अखाड़ा जालोर के पीठाधीश्वर संत शांतिनाथ महाराज का सोमवार शाम को उदयपुर में हृदयघात से ब्रह्मलीन हो गया! उनके निधन का समाचार सूनते ही पूरे जिले और प्रवासियों में शोक की लहर दौड़ गई। उनके भक्त रात को अखाड़े में जुटना शुरू हो गए। दक्षिणी राज्यों से भी अनेक लोग रात को ही रवाना हो गए!

जानकारी के अनुसार कुछ दिन पूर्व उनके स्वास्थ्य में गिरावट के कारण उन्हें उदयपुर भर्ती करवायागया था। जहां सोमवार रात को अचानक हृदय घात से उनका देवलोक हुआ ! जिसके बाद उनका पार्थिव शरीर जालोर के लिए रवाना किया गया! जैसे ही यह समाचार लोगों को मिलना शुरू हुआ! जिले के लोगों सहित और राज्यों जैसे गुजरात, मुंबई, चेन्नई, बैंगलोर, दिल्ली और मैसूर सहित अन्य दक्षिणी राज्यों में प्रवासियों में शोक की लहर दौड़ गई! अनेक लोग रात को ही उनके मठ के लिए रवाना हो गए! सवेरे तक यहां हजारों लोगों की भीड़ जुट गई!

  श्री श्री 1008 श्री शांतिनाथ जी महाराज का जीवन परिचय : -

पीर श्री शांतिनाथ जी अपने कृतित्व और व्यक्तित्व के कारण हर धर्म के लोगों में पुजे जाते हैं! उनके शांत स्वरूप और आकर्षक चित्त की ओर हर कोई बरबस ही आकर्षित हो जाता था! मुस्लिम समाज की ओर से भी उन्हें पीर की उपाधि दी गई। वे सिरे मंदिर और भैरूनाथ अखाड़ा जालोर के पीठाधीश्वर बने! श्री भोलानाथ केब्रह्मलीन होने के बाद विक्रम संवत 2025 में कार्तिक शुक्ल सप्तमी को उन्हें यह गादी मिली। तभी से उनके भक्तों की संख्या बढऩे लगी। 
उनका जन्म जालौर शहर के निकट भागली सिंधलान गांव में श्री रावतसिंह जोरावत के घर विक्रम संवत 1996 में माघ कृष्णा 5 को हुआ। उनके पिता श्री रावतसिंह संतश्री केसरनाथ जी के भक्त थे और उनकी प्रेरणा से उन्होंने अपने बेटे को संन्यास के लिए समर्पित कर दिया। इसके बाद श्री केसरनाथजी ने उन्हें दीक्षित किया और धीरे धीरे श्री शांतिनाथजी जन जन के आराध्य बन गए!
श्री श्री 1008 श्री शांतिनाथ जी महाराज को शत् शत् नमन....सुगना फाउण्डेशन मेघलासिया
आभार 
न्यूज़ भेजने वाले श्री एस.पी.सिंह राजपुरोहितजी


आप भी हमें अपने गांव और अन्य सामाजिक गतिविधियों की खबर(न्यूज़) भेज सकते है! 
  हमारा पता है -  sawaisinghraj007@gmail.com
सवाई सिंह राजपुरोहित आगरा {सदस्य}
सुगना फाऊंडेशन-मेघलासिया जोधपुर
मोबाइल नo 09286464911

मेरे साथ जुडिए फेसबुक पर 

इस लिंक पर क्लिक करें



यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो फालोवर(Join this site)अवश्य बने. साथ ही अपने सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ. यहां तक आने के लिये सधन्यवाद.... आपका सवाई सिंह राजपुरोहित

2 comments:

  1. JAI HO NATHO KE NATH SHANKAR KE AVTAR KI

    ReplyDelete

thank u dear
Join fb Page
https://www.facebook.com/rajpurohitpage

हिंदी में लिखिए अपनी...

रोमन में लिखकर स्पेस दीजिए और थोड़ा सा इंतजार कीजिए .... सुगना फाऊंडेशन-मेघालासिया जैसे :- Ram (स्पेस) = राम
अब इस कॉपी करे और पेस्ट करे...सवाई आगरा

एक सुचना

एक सुचना

Share us

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Contact me