न्यूज़ हेडलाइंस Post

Followers

यह ब्लॉग समर्पित है!

"संत श्री 1008 श्री खेतेश्वर महाराज" एवं " दुनिया भर में रहने वाले राजपुरोहित समाज को यह वेबसाइट समर्पित है" इसमें आपका स्वागत है और साथ ही इस वेबसाइट में राजपुरोहित समाज की धार्मिक, सांस्‍क्रतिक और सामाजिक न्‍यूज या प्रोग्राम की फोटो और विडियो को यहाँ प्रकाशित की जाएगी ! और मैने सभी राजपुरोहित समाज के लोगो को एकीकृत करने का ऐसा विचार किया है ताकि आप सभी को राजपुरोहित समाज के लोगो को खोजने में सुविधा हो सके! आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं तो फिर तैयार हो जाईये! "हमारे किसी भी वेबसाइट पर आपका हमेशा स्वागत है!"
वेबसाइट व्यवस्थापक सवाई सिंह राजपुरोहित-आगरा{सदस्य} सुगना फाऊंडेशन-मेघलासिया जोधपुर 09286464911

मेरे साथ फेसबुक से जुडिए

12.1.13

राजपुरोहित को सिंह की उपाधि और जागीरदारी


आर्यों द्वारा स्थापित वर्ण व्यवस्था के आधार पर सम्पूर्ण हिन्दू को चार वर्गों में बाटा था| ब्राह्मण,क्षत्रिय,वेश्य एवं शुद्र | राजपुरोहित समाज ब्राह्मण वर्ग का एक ही अभिन्न श्रेष्ठ अंग रहा ब्राह्मणों में से श्रेष्ठ विद्या धारक को पुजारी पुरोहित अथवा राजगुरु बनाया जाता था |पारम्परिक तोर पर राजपुरोहित राजा का गुरु के साथ ही प्रमुख मंत्री अथवा सलाहकार का दायित्व भी निभाना था राजपुरोहित राजा वेदों को उपनिषदों धनुविद्या,शिक्षा एवं युद्ध कला की जानकारी देते थे | कालांतर में राजपुरोहितो ने राजाओ को युद्ध में कन्धा मिलाकर साथ दिया,परिणाम स्वरूप इन्हें नाम के आगे  "सिंह" शब्द से संबोधित किया जाने लगा | अपने युद्ध के पराक्रम एवं कोशल के कारण इनको राजाओ की और से डोली(किसी गाव की उपजाऊ जमीन) तथा शासन गाव(किसी गाव विशेष को लगन मुक्त) उपहार स्वरूप भेट किया जाता है |इसी कारण माध्ययुग में राजपुरोहितो जागीरदार कहलाने लगे | बिर्टिश राज में कहते थे की कभी सूर्यअस्त नही होता था | वह से आदेश जारी हुआ तथा भारत के  लार्ड को पूछा गया की हिन्दुस्थान में राजपूत ही क्यों "राज" करते है तब यहा के लार्ड ने जबाव भिजवाया की राजपूतो के "राजपूत" राजपुरोहित होते है |तथा राजपुरोहित इतने वफादार होते है की राजपूतो को "राह" से भटकने नही देते है | इस पर पुन: आदेश हुआ की यदि ऐसा ही है तो राजपुरोहित को "जागीरदार" बना दो | शने-शने इनका ध्यान राजविद्या से हटकर कास्तकारी की और बढ़ गया था| राजा से सम्पर्क कम होने लगा |जिसके कारण राजा -महाराजा भोग विलासी बन बेठे एवं विदेशी लोगो ने आकर यह आधिपत्य स्थापित कर लिया |चुकी मध्ययुग की समाप्ति एवं राजाशाही शासन के अंत के बाद भारत वर्ष में लोकतंत्र  स्थापित हुआ और जागीरे सिमट कर गई |जिसके कारण जागीदार कहलाने वाले राजपुरोहितो का ध्यान व्यापार की और गया तथा दक्षिणी पूर्वी भारत सहित देश में काफी भागो में व्यापार स्थापित किया कइयो ने सरकारी अथवा निजी नोकरिया की राह चुनी
                                                           
                                                   लेखक--:> दिनेश सिंह राजपुरोहित सिया


प्रस्तुतकर्ता
 सवाई सिंह राजपुरोहित आगरा (सदस्य)
सुगना फाऊंडेशन मेघलासिया जोधपुर
आपका साथ और हमारा प्रयास
कोई सुझाव देना चाहते है! तो हमसे संपर्क करे!
हमारा ई-मेल पता है :- sawaisinghraj007@gmail.com
मोब.न.:- 09286464911
आप भी भेज सकते हैं समाज में होने वाले प्रोग्रामों की जानकारी या उनके फोटोग्राफस एवं सूचना!


यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो फालोवर(Join this site)अवश्य बने. साथ ही अपने सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ. यहां तक आने के लिये सधन्यवाद.... आपका सवाई सिंह राजपुरोहित

No comments:

Post a Comment

thank u dear
Join fb Page
https://www.facebook.com/rajpurohitpage

हिंदी में लिखिए अपनी...

रोमन में लिखकर स्पेस दीजिए और थोड़ा सा इंतजार कीजिए .... सुगना फाऊंडेशन-मेघालासिया जैसे :- Ram (स्पेस) = राम
अब इस कॉपी करे और पेस्ट करे...सवाई आगरा

आपका लोकप्रिय ब्लॉग अब फेसबुक पर अभी लाइक करे .



Like & Share

Share us

ट्विटर पर फ़ॉलो करें!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Nivedan Hai