न्यूज़ हेडलाइंस Post

Followers

यह ब्लॉग समर्पित है!

"संत श्री 1008 श्री खेतेश्वर महाराज" एवं " दुनिया भर में रहने वाले राजपुरोहित समाज को यह वेबसाइट समर्पित है" इसमें आपका स्वागत है और साथ ही इस वेबसाइट में राजपुरोहित समाज की धार्मिक, सांस्‍क्रतिक और सामाजिक न्‍यूज या प्रोग्राम की फोटो और विडियो को यहाँ प्रकाशित की जाएगी ! और मैने सभी राजपुरोहित समाज के लोगो को एकीकृत करने का ऐसा विचार किया है ताकि आप सभी को राजपुरोहित समाज के लोगो को खोजने में सुविधा हो सके! आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं तो फिर तैयार हो जाईये! "हमारे किसी भी वेबसाइट पर आपका हमेशा स्वागत है!"
वेबसाइट व्यवस्थापक सवाई सिंह राजपुरोहित-आगरा{सदस्य} सुगना फाऊंडेशन-मेघलासिया जोधपुर 09286464911

मेरे साथ फेसबुक से जुडिए

24.1.13

जोधपुर के बारे में बिलकुल अनूठी और दिलचस्प बातों का पिटारा...sawai agra


- दो ब्रेड के बीच में मिर्ची बड़ा दबा कर खाना यहाँ का ख़ास ब्रेकफास्ट माना जाता है.

- मिठाई की दुकान पर खड़े खड़े आधा किलो गुलाब जामुन खाते जोधपुर में सहज ही किसी को देखा जा सकता है.

- गर्मी से बचाव के लिए चूने में नील मिलाकर पोतने का रिवाज़ सिर्फ और सिर्फ जोधपुर में ही है.

- यहाँ की परंपरा में गालियों को घी की नालियां कहा जाता है. तभी तो गाली देने पर यहाँ का बाशिंदा नाराज़ नहीं होता, क्योंकि गाली भी इतने मीठे तरीके से दी जाती है, उसका असर नगण्य हो जाता है.

- बेंतमार गणगौर जैसा त्योहार सिर्फ जोधपुर में ही मनाया जाता है, जिसमें पूरी रात सड़कों पर सिर्फ महिलाओं की हुकूमत चलती है.

- दाल-बाटी, चूरमा के लिए जोधपुर में कहा जाता है,दाल हँसती हुई, चूरमा रोता हुआ और बाटी खिलखिल होनी चाहिए. यानि दाल चटपटी मसालेदार, चूरमा ढेर सारे घी वाला और बाटी सिककर तिड़की हुई होनी चाहिए.

- के. पी. यानि खांचा पोलिटिक्स की ट्रिक ख़ास जोधपुरी अंदाज़ है, जिसमे भीड़ से किसी भी आदमी को सबके सामने चुपचाप कोने में ले जाकर सिर्फ इतना पूछा जाता है – कैसे हो आप.

- जोधपुरियंस का ख़ास जुमला है ‘काई सा’ और ‘किकर’. इसका अर्थ है कैसे हैं? इन दिनों क्या चल रहा है.

- ‘चेपी राखो’ इस शब्द का जोधपुर में मतलब है, जो काम कार रहे हो उसमें जुटे रहो.

- मिर्ची बड़ा, मावे की कचौरी और मेहरानगढ़ पर हर जोधपुर वासी को गर्व है.

- पानी की सप्लाई होते ही घर के आँगन को धोने का रिवाज़ जोधपुर में ही है.

- गली के नुक्कड़ पर पत्थर की खुली कुण्डी जोधपुर में लगभग हर जगह मिल जायेगी, जहां घर का बचा खुचा बासी भोजन गायों के लिए डाला जाता है.

- किसी भी काम के लिए सीधे मना करने की आदत किसी भी जोधपुरियन की नहीं होती. बहाने बना कर टाल देंगे, मगर सीधे मना नहीं करेंगे. जोधपुर में इस शैली के लिए ख़ास शब्द है- गोली देना.

- फास्ट फ़ूड के नाम पर पिज्ज़ा-बर्गर के मुकाबले मिर्ची बड़ा और प्याज की कचौरी पसंद की जाती है.

- सड़क पर जाम में फंसने के बजाय जोधपुरी लोग पतली गलियों से निकल जाना पसंद करते हैं.

- घंटा घर जोधपुर में ऐसी जगह है, जहां पैदा होते बच्चे के सामान से लेकर अंतिम संस्कार तक का सारा सामान मिल जाता है.यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो फालोवर(Join this site)अवश्य बने. साथ ही अपने सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ. यहां

 तक आने के लिये सधन्यवाद.... आपका सवाई सिंह राजपुरोहित

1 comment:

thank u dear
Join fb Page
https://www.facebook.com/rajpurohitpage

हिंदी में लिखिए अपनी...

रोमन में लिखकर स्पेस दीजिए और थोड़ा सा इंतजार कीजिए .... सुगना फाऊंडेशन-मेघालासिया जैसे :- Ram (स्पेस) = राम
अब इस कॉपी करे और पेस्ट करे...सवाई आगरा

आपका लोकप्रिय ब्लॉग अब फेसबुक पर अभी लाइक करे .



Like & Share

Share us

ट्विटर पर फ़ॉलो करें!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Nivedan Hai