न्यूज़ हेडलाइंस Post

Followers

यह ब्लॉग समर्पित है!

"संत श्री 1008 श्री खेतेश्वर महाराज" एवं " दुनिया भर में रहने वाले राजपुरोहित समाज को यह वेबसाइट समर्पित है" इसमें आपका स्वागत है और साथ ही इस वेबसाइट में राजपुरोहित समाज की धार्मिक, सांस्‍क्रतिक और सामाजिक न्‍यूज या प्रोग्राम की फोटो और विडियो को यहाँ प्रकाशित की जाएगी ! और मैने सभी राजपुरोहित समाज के लोगो को एकीकृत करने का ऐसा विचार किया है ताकि आप सभी को राजपुरोहित समाज के लोगो को खोजने में सुविधा हो सके! आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं तो फिर तैयार हो जाईये! "हमारे किसी भी वेबसाइट पर आपका हमेशा स्वागत है!"
वेबसाइट व्यवस्थापक सवाई सिंह राजपुरोहित-आगरा{सदस्य} सुगना फाऊंडेशन-मेघलासिया जोधपुर 09286464911

मेरे साथ फेसबुक से जुडिए

22.10.13

श्रीमती खम्मा ने किडनी देकर बचाई पति श्री जीवराजसिंह राजपुरोहित की जान

                                 करवा चौथ का निभाया धर्म 

करीब 20 वर्ष पूर्व बालोतरा सिंहा पुरोहितों का वास छतरियों का मोर्चा निवासी खम्मा की शादी घुंघट (सिवाना) के जीवराजसिंह राजपुरोहित के साथ हुई तो खम्मा के मन में भी पति के साथ शुरू हो रहे नवजीवन को लेकर कई उम्मीदें जग रही थीं। पति जीवराजसिंह की हुबली (कर्नाटक) में इलेक्ट्रॉनिक्स की दुकान थी और घर-आंगन में खुशियां ही खुशियां थी। शादी के बाद एक वर्ष तक सबकुछ ठीक चला, मगर इसके बाद खुशहाल परिवार को किसी की ऐसी नजर लगी कि खम्मा का जीवन संघर्ष की कहानी बन गया।शादी के एक वर्ष बाद अचानक पता चला कि जीवराजसिंह की एक किडनी खराब है। ग्रामीण परिवेश में रहने के कारण पहले झाड़-फूंक का सहारा लिया गया। कई देवी-देवताओं के धोक लगाई, मगर धीरे-धीरे जीवराजसिंह की दूसरी किडनी भी दगा दे गई। इस दरम्यिान इलाज पर इतना खर्चा हुआ कि खम्मा की आर्थिक स्थिति भी काफी खराब हो गई। मगर खम्मा (अब 40 वर्ष) ने बिल्कुल अकेले रहते हुए भी हार नहीं मानी और सावित्री की तरह अडिग रहते हुए हर कीमत पर अपने पति की जान बचाने की ठान ली। खम्मा के संघर्ष में उसके पीहर पक्ष ने पूरा साथ दिया। परिजनों की राय पर खम्मा अपने पति को नाडियाद (गुजरात) स्थित मूलजी भाई पटेल हॉस्पिटल ले गई, जहां वे करीब छह माह तक डायलिसिस पर रहे। इस दौरान खम्मा ने अपनी किडनी की जांच कराई तो चिकित्सकों ने बताया कि उसकी किडनी जीवराजसिंह की किडनी से मेल करती है। अब खम्मा के सामने संकट था रुपयों का, जिसके लिए केंद्र सरकार व राज्य सरकार से भी गुहार लगाई गई। राज्य सरकार से उसे 60 हजार रुपए मिले, वहीं केंद्र सरकार से भी इलाज के लिए तीन लाख रुपए की स्वीकृति मिल गई। करीब 20 दिन पहले ऑपरेशन हुआ और खम्मा की किडनी उसके पति जीवराजसिंह को ट्रांसप्लांट कर दी गई। खम्मा के भाई हंसराजसिंह राजपुरोहित व भावेशकुमार राजपुरोहित ने बताया कि आखिर खम्मा का 20 वर्षों का संघर्ष रंग लाया और आज जीवराजसिंह व खम्मा दोनों नाडियाद अस्पताल में ही है। चिकित्सकों ने बताया कि दोनों एकदम स्वस्थ है और किडनी ट्रांसप्लांट सक्सेसफुल रहा। 

साभार :- भास्कर न्यूज. बालोतरा

No comments:

Post a Comment

thank u dear
Join fb Page
https://www.facebook.com/rajpurohitpage

हिंदी में लिखिए अपनी...

रोमन में लिखकर स्पेस दीजिए और थोड़ा सा इंतजार कीजिए .... सुगना फाऊंडेशन-मेघालासिया जैसे :- Ram (स्पेस) = राम
अब इस कॉपी करे और पेस्ट करे...सवाई आगरा

आपका लोकप्रिय ब्लॉग अब फेसबुक पर अभी लाइक करे .



Like & Share

Share us

ट्विटर पर फ़ॉलो करें!

Contact me

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Nivedan Hai