न्यूज़ हेडलाइंस Post

Followers

यह ब्लॉग समर्पित है!

"संत श्री 1008 श्री खेतेश्वर महाराज" एवं " दुनिया भर में रहने वाले राजपुरोहित समाज को यह वेबसाइट समर्पित है" इसमें आपका स्वागत है और साथ ही इस वेबसाइट में राजपुरोहित समाज की धार्मिक, सांस्‍क्रतिक और सामाजिक न्‍यूज या प्रोग्राम की फोटो और विडियो को यहाँ प्रकाशित की जाएगी ! और मैने सभी राजपुरोहित समाज के लोगो को एकीकृत करने का ऐसा विचार किया है ताकि आप सभी को राजपुरोहित समाज के लोगो को खोजने में सुविधा हो सके! आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं तो फिर तैयार हो जाईये! "हमारे किसी भी वेबसाइट पर आपका हमेशा स्वागत है!"
वेबसाइट व्यवस्थापक सवाई सिंह राजपुरोहित-आगरा{सदस्य} सुगना फाऊंडेशन-मेघलासिया जोधपुर 09286464911

मेरे साथ फेसबुक से जुडिए

21.4.16

ये हैं कलयुग के श्रवण कुमार, 20 साल से मां को करा रहे चार धाम के दर्शन

ये हैं कलयुग के श्रवण कुमार, 20 साल से मां को करा रहे चार धाम के दर्शन

करन्ट न्यूज़ आगरा। श्रवण कुमार की कहानी से आप वाकिफ होंगे। लेकिन आपको श्रवण कुमार से मिलने का मौका मिले तो.। 2 फरवरी 1996 को मध्यप्रदेश के जबलपुर से अपनी मां को डोली पर लेकर पैदल निकले कैलाश गिरी कलयुग के श्रवण कुमार हैं। वह 20 साल से अपनी अंधी मां कीर्ति देवी को चार धाम की यात्रा करा रहे हैं।

कलयुग के श्रवण कुमार कैलाश की कहानी दिल को छू लेने वाली है। बचपन में कैलाश पेड़ से गिर गए थे। हालात इतनी बिगड़ गई कि उन्हें बचाना मुश्किल हो गया। कैलाश मां ने मन्नत मांगी कि बेटा बच जाए तो चार धाम की पैदल यात्रा करेंगे। ईश्वर ने उनकी सुन ली और कैलाश फिर से उठ खड़े हुए।

अब बारी थी मां का वचन पूरा करने की। कैलाश बड़े हुए मां के उस वचन को पूरा करने की ठान ली। दुनिया के रंग न देख पाने वाली मां को इस बेटे ने डोली में बैठाया और पैदल चार धाम की यात्रा पर लेकर चल पड़ा।

कैलाश और उनकी मां की पैदल यात्रा नर्मदा परिक्रमा से शुरू हुई। इसके बाद काशी, अयोध्या, इलाहाबाद, चित्रकूट, रामे

श्वरम, तिरुपति बालाजी, जगन्नाथ पूरी, गंगा सागर, तारा पीठ, बैजनाथ धाम, जनकपुर, नेमसारांड, बद्री नाथ, केदार नाथ, ऋषिकेश, हरिद्वार, पुष्कर, द्वारिका, नामे

श्वर, सोमनाथ, जूनागढ़, महा कालेश्वर, ॐ कालेश्वर, मईहर, बांदकपुर, आगरा होते हुए वृन्दावन के बाद जबलपुर अंतिम पड़ाव होगा।

कैलाश का एक और सपना है। वह जबलपुर में हास्पिटल और गौशाला खोलकर इंसान और जानवर की सेवा करना चाहते हैं। मंगलवार को कैलाश अपनी 92 साल की मां को लेकर आगरा पहुंचे तो यहां उनका जोरदार स्वागत किया गया।

कैलाश अपनी मां को लेकर 36,865 किलोमीटर की पैदल यात्रा कर चुके हैं। आगरा में बाबा को ताजमहल देखने की इच्छा है। इसलिए बाबा रात में भी यहां के सेवला इलाके में ही रुकेंगे।

All by Deepak Parashhar

No comments:

Post a Comment

thank u dear
Join fb Page
https://www.facebook.com/rajpurohitpage

हिंदी में लिखिए अपनी...

रोमन में लिखकर स्पेस दीजिए और थोड़ा सा इंतजार कीजिए .... सुगना फाऊंडेशन-मेघालासिया जैसे :- Ram (स्पेस) = राम
अब इस कॉपी करे और पेस्ट करे...सवाई आगरा

आपका लोकप्रिय ब्लॉग अब फेसबुक पर अभी लाइक करे .



Like & Share

Share us

ट्विटर पर फ़ॉलो करें!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Nivedan Hai