न्यूज़ हेडलाइंस Post

सभी राजपुरोहित बंधुओं को जय श्री रघुनाथजी री सा, जय श्री खेतेश्वर दाता री सा...सुगना फाऊंडेशन-मेघलासिया जोधपुर 9286464911

Followers

यह ब्लॉग समर्पित है!






"संत श्री 1008 श्री खेतेश्वर महाराज" एवं " दुनिया भर में रहने वाले राजपुरोहित समाज को यह वेबसाइट समर्पित है" इसमें आपका स्वागत है और साथ ही इस वेबसाइट में राजपुरोहित समाज की धार्मिक, सांस्‍क्रतिक और सामाजिक न्‍यूज या प्रोग्राम की फोटो और विडियो को यहाँ प्रकाशित की जाएगी ! और मैने सभी राजपुरोहित समाज के लोगो को एकीकृत करने का ऐसा विचार किया है ताकि आप सभी को राजपुरोहित समाज के लोगो को खोजने में सुविधा हो सके!

आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं तो फिर तैयार हो जाईये!

"हमारे किसी भी वेबसाइट पर आपका हमेशा स्वागत है!"

वेबसाइट व्यवस्थापक
सवाई सिंह राजपुरोहित-आगरा{मिडिया प्रभारी }
सुगना फाऊंडेशन-मेघलासिया जोधपुर & आरोग्यश्री मेला समिति
09286464911

मेरे साथ फेसबुक से जुडिए

25.7.16

भांयदर वेस्ट मे सतं खेतेशवर चौक का बोर्ड अपने यथावत जगह पर


आज भांयदर वेस्ट मे सतं खेतेशवर चौक का बोर्ड अपने यथावत जगह पर मुनसिपल कमिशनर द्वारा लगाया जो पहले रोड विस्तारीकरण के कारण हटा दिया था  इस अवसर पर राजपुरोहित समाज ने बोर्ड पर फुल माला पहनाकर हर्ष व्यक्त किया ओर महानगरपालिका कमिशनर का आभार व्यक्त किया

आज जयपुर से आसोतरा ब्रह्म धाम हेतु राजस्थान परीवहन द्वारा सीधी बस सेवा शुरू हुई हे

जय ब्रह्म धाम आसोतरा की आज जयपुर से आसोतरा ब्रह्म धाम हेतु राजस्थान परीवहन द्वारा सीधी बस सेवा शुरू हुई हे ब्यावर बस स्टैंड पर आज दिन पूर्व उपसभापति और किसान मोर्चा प्रदेश कार्य कारिणी सदस्य जय सिंह राज पुरोहित के साथ पुरोहित समाज ब्यावर के गोविन्द सिंह अचल सिंह भगवान सिंह गोपाल सिंह राजेंद्र सिंह बबलू जी अचल सिंह टुकड़ा मूल सिंह राज पुरोहित और ब्यावर के पूर्व विधायक देवी शंकर भूतड़ा तुलसी बोथरा लक्षमण सिह हुरा सत्यस्वरूप शर्मा देवेन्द्र शर्मा महेंद्र बजाज  देवकीनन्दन शर्मा  गोरी शंकर भाटी ने इस नई सुरु हुई बस में यात्रा कर रहे और इस बस को सुरु कराने के सूत्रधार गजेन्द्र सिंह राज पुरोहित का और बस ड्राईवर कान्टेक्टर और यात्रिओ का साफा और माला पहनाकर अल्पाहार कराकर आसोतरा के लिए रवाना किया इन सभी ने मुख्य मंत्री श्री वसुंधरा राजे जी को बधाई दी 🌹🌹

22.7.16

वीर गाथा फतेहसिंहजी राजपुरोहित गजाणी साँथू राजस्थान के लोकदेवता गौरक्षा झूँझार वीर

#वीर_गाथा #फतेहसिंहजी #जीसाजी #राजपुरोहित #गजाणी #साँथू #राजस्थान_के_लोकदेवता #गौरक्षा #झूँझार_वीर

वीर श्री फतेहसिंहजी राजपुरोहित (गजाणी) #साँथू
राजस्थान के #जालोर जिले से 25 किमी. पर स्थित स्वर्ण नगरी "साँथू" की पावन भूमि पर कई वीरो और सतीयो ने जन्म लिया है ।
आज आपको गाथा सुनाते श्री फतेहसिंह जी की
फतेहसिंह जी बहुत साहसी और शक़्तिशाली व्यक़्ति थे । वे घुडसवारी एवं शस्त्र विद्या मे निपुण थे । उनके पिताजी का नाम गजसिंह जी था (गजसिंह जी परिवार "#गजाणी" नक/उपनाम से जाना जाता है) । फतेहसिंहजी का विवाह भादल्डा मे हुआ और उनके तीन पुत्र थे ।
फतेहसिंहजी की शुरवीरता की ख्याती आस-पास के गॉवो मे फैली थी । उस समय मेणा डाकू का गीरोह था जो लुटपाट और आतँक के कारण कुख्यात हो गया था । उसको स्वयं की शक़्ति पर बहुत घमंड था । इसी तरह एक स्थान पर लुटपाट करते समय, उसे एक व्यक़्ति ने चुनौती दी , की यदी तू स्वयं को इतना ही शक़्तिशाली समझता है तो साँथू के फतेहसिंह जी गजाणी को लुटकर दिखा ।
मेणा डाकु को ये अपने अहंकार पर चोट लगी और कुछ ही दिनो बाद, उसने अपने गिरोह के साथ, फतेहसिंहजी के खेत पर आक्रमण करके ऊनकी गाये ले जाने लगा ।
सुचना पाते ही फतेहसिंहजी वहा पहुँचे और गौ-धन रक्षार्थ, अकेले ही उनसे भयंकर युद्ध करके,  मेणा डाकु को उसके गीरोह समेत समाप़्त कर दिया । एक ही वार मे मेणा डाकु का सिर, धड से अलग कर दिया ।
गीरोह के दो-चार सदस्य अपनी जान बचाकर भाग गए । वे गॉव देलदरी के काबावत राजपुतो के पास पहुँचे एवं उन्हे सारी घटणा सुनाई (मेणा डाकु को देलदरी के काबावत राजपुतो से संरक्षण/समर्थन प्राप़्त था) ।
ईस घटणा के कारण उन्होने फतेहसिंह जी से बदला लेने का निर्णय कीया ।
#देलदरी के 25-30 काबावत राजपुतो और मीणा ने फतेहसिंह जी के बाडे (फारम), जो की साँथू गॉव से थोडी दूरी पर स्थीत है, वहा उनको अकेला देखकर युद्ध के लिए ललकारा ।
फतेहसिंह जी 60 वर्ष की उम्र के थे , पर उनके शरीर, तेज, शौर्य और बल से वे जवानो को भी मात देने जैसे लगते थे ।
फतेहसिंह जी ने चुनौती को स्वीकार करके अकेले ही उनसे युद्ध करने लगे । शुरवीर श्री फतेहसिंह जी राजपुरोहित ने घोडे पर सवार होकर आक्रमणकारीयो का संहार शुरु कर दीया और देखते ही देखते , उनको मार गीराया ।
आखीर मे केवल 3 आक्रमणकारी बचे । उन्होने जीतने की सम्भावना ना देखकर फतेहसिंह जी को छल से मारने का निर्णय कीया । उनमे से एक झाडीयो मे छुप गया और बाकी दो बोले की 'ऐसे लडकर मरने से कीसी का भला नही होगा, इसलिए हम "राजीपा" (समझौता) , कर लेते है' ।
भोले मन के फतेहसिंह जी उनकी बातो को सत्य मानकर, खेजडी के निचे हथाई करने के लिए बैठे , तभी तीसरे ने खेजडी के पीछे से, बैठे हुए फतेहसिंह जी की पीठ मे भाले से प्रहार कीया ।
घायल फतेहसिंह जी उनसे पुनः युद्ध करने लगे । उस समय उनका बैल , उनकी पगडी को अपने सींग पर लेकर गॉव की तरफ भागा और उनके पुत्रो के समक्ष उनकी पगडी को ले गया । अनहोनी का आभास होते देख उनके पुत्र फारम मे पहुँचे ।
घायल फतेहसिंहजी को बैलगाडी पर गॉव मे लेकर जाने लगे । उन्होने अपनी पुरी गाथा, अपने पुत्रो और साथ आए कुछ लोगो को सुनाई । मार्ग मे गजाणी परिवार के कुलदेव , श्री निलकँठ महादेव के मन्दिर मार्ग के नाके पर बैलगाडी को रोकने का आदेश दीया और शिवलिंग को पानी छडाकर वो पानी लाने को कहा ।
शिवलिंग को छडाया पानी पिकर,  थोडा पानी अपने हाथ मे लिया और अपने कुल एवं परिवार के लोगो को देलदरी गॉव से "#गादोतरा" (वहा का अन्न/जल भी ना छुना) रखने की बात कही - "देलदरी के काबावत राजपुतो ने अपने सच्चे राजपुति क्षत्रिय कुल का अपमान कीया है । युद्ध मे एक ब्राह्मण पुत्र पर धोखे से प्रहार करके दगा कीया है और क्षत्रिय वंश को दाग लगाया । ऐसे दगा करके वार करनेवालो को मै कभी क्षमा नही करुँगा और मेरे कुल/परिवार को आदेश देता हूँ, की वे गॉव देलदरी से कोई नाता/व्यवहार ना रखे और मै 'गादोतरा' की घोषणा करता हूँ ।
      जय नीलकँठ महादेव "
अंत मे कुलदेवता श्री नीलकँठ महादेव का नाम लेकर अपनी देह त्याग दी । (भाद्रपद की शुक्ल पक्ष (अजवाली) नवमी (9) तिथी संवंत् 1861) ।
वीर फतेहसिंह जी के दो स्थान पर छोटे मन्दिर बनाए गए है । एक फार्म मे, जहा युद्ध मे धोखे से भाला मारा गया ,,, एवं दुसरा श्री नीलकँठ मंदिर के मार्ग पर, जहाँ वीर ने देहत्यागी थी ।
गॉव एवं परिवार के लोग ऊन्हे "जीसा जी" नाम से पुजते है । जीसाजी द्वारा आदेशीत गादोतरा का आज भी कट्टरता से पालन हो रहा है । हर वर्ष भाद्रपद की नवमी (9) तिथी को फार्म मे मेला लगता है ।
श्री वीर फतेहसिंह जी राजपुरोहित ,  राजस्थान सरकार द्वारा , "राजस्थान के लोकदेवता" पुस्तक की सुची मे स-सम्मान सम्मिलीत है ।
मै #अनिल_राज_गजाणी ने, अपने सिमीत ज्ञान एवं संसाधनो के द्वारा ये वीर गाथा लिखने का प्रयास कीया है । शुरवीर का पुर्ण बखान अपनी शुक्ष्म बुद्धी से परे है , इसिलीए कीसी भी प्रकार की त्रुटी के लिए , घणी खम्मा ।
         जय श्री वीर फतेहसिंह जी "जीसाजी"
             जय श्री निलकँठ महादेव

                              - अनिल राज गजाणी
                              - Anil Raj Gajaani

श्री गुरूपूर्णिमा महोत्सव दिल्ली में गुरु महाराज संत श्री खेताराम जी महाराज के प्रति श्रद्धा प्रकट करते हुए

श्री गुरूपूर्णिमा महोत्सव दिल्ली में गुरु महाराज संत श्री खेताराम जी महाराज के प्रति श्रद्धा प्रकट करते हुए श्री पीपी चौधरी , केंद्रीय कानून राज्य मंत्री , भारत सरकार, श्री गजेंद्र सिंह शेखावत सांसद जोधपुर, और समाज बंधू 
आयोजक - श्री राजपुरोहित समाज वेलफेयर सोसायटी दिल्ली

18.7.16

"उतिष्ठह् राजपुरोहित" पुस्तक का लोकार्पण समारोह कार्यक्रम

विशेष सूचना।
जय श्री रघुनाथजी री।
दिनांक 24.07.2016 रविवार दोपहर 2.00 बजे ।
स्थान-नगरपालिका के सामने" विकास भवन" भीनमाल । आपको आमंत्रित करते हुए कि राजपुरोहित समाज की संस्थान "वीर दूदाजी फाउंडेशन" के बैनर तले समाज की एकता,उन्नति, सामाजिक विरासत एवं सांस्कृतिक गौरव की पुर्नस्थापना के लक्ष्य को लेकर वर्तमान परिप्रेक्षय को सार्थक करती "उतिष्ठह् राजपुरोहित"  पुस्तक का लोकार्पण समारोह कार्यक्रम में पधारकर समाज सेवा के यज्ञ में सहयोगी बने।
कार्यक्रम के मुख्य अतिथि- श्री धन्नाराम राजपुरोहित राज्यमंत्री राजस्थान सरकार। अध्यक्षता करेंगे श्री हरिशंकर राजपुरोहित सांथू एडवोकेट जालोर व् विशिष्ट अतिथि के तोर पर श्री दुर्गपाल सिंह राजपुरोहित पुलिस उपअधीक्षक जालोर, श्री धुखाराम राजपुरोहित प्रधान प. स.भीनमाल, श्री शंकरलाल राजपुरोहित एडवोकेट भीनमाल, श्री राकेश राजपुरोहित विकास अधिकारी , पिंकी राजपुरोहित प्रधान जसवंतपुरा, श्री प्रागारामजी डुंगरी, श्री केवाराम जी दुदावत रोपसी।
                     निवेदक
     वीर दूदाजी फाउंडेशन, भीनमाल
ललित राजपुरोहित वणधर 9772350011, एडवोकेट सत्यवानसिंह राजपुरोहित 9414834896, अर्जुन राजपुरोहित वणधर, घेवाराम प्रतापजी दुदावत रोपसी, हरीश राजपुरोहित सारीयाना। 

आप सभी को जरूर पधारना है।

16.7.16

गरूड कमाण्डो देव राजपुरोहित, पिलोवणी,पाली

#गरूड कमाण्डो देव राजपुरोहित, #पिलोवणी,पाली (बाँए से तीसरे बैठे हुए) देश के साहसी अभियानों में इस वीर धरा राजस्थान की भागीदारी नही हों ऐसा हो ही नहीं सकता। द.सूडान संकट में फँसे भारतीयों को सुरक्षित वतन लाने के लिए वी.के सिंह के नेतृत्व में स्पेशल आँपरेशन #संकटमोचन के तहत सूडान पहुँचे भारतीय गरूड कंमाडो दल। तथा 300 भारतीयों को सूडान से बचाया गया |

8.7.16

इंद्रसिंह राजपुरोहित महामहिम राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के हाथो से सम्मानित होंगे

बिग ब्रेकिंग
सिवाना(बाड़मेर) सिवाना विकास अधिकारी राजपुरोहित होंगे राष्ट्रपति से सम्मानित
पंचायतीराज विभाग में उल्लेखनीय कार्य करने के एवज में सिवाना विकास अधिकारी इंद्रसिंह राजपुरोहित महामहिम राष्ट्रपति प्रणव मुखर्जी के हाथो से सम्मानित होंगे।हाल ही में राजपुरोहित ने सिवाना विकास अधिकारी के रूप में कार्यभार सँभालने के बाद अपनी कार्यकुशलता एंव आम जनता से स्नेह की भावना के कारण लोगो के दिलो में विशेष स्थान पाया है।

News By Fb Page
सिवाना

भगवान उनकी आत्मा को शांति दे

परमात्मा बड़ा है
मैंने आज तक किसी ग्रामीण क्षेत्र के शव यात्रा या अंतिम संस्कार मे इतने लोगो की मौजूदगी नही देखी , मैने आज तक नही देखा कि हमारे समाज मे किसी 24 वर्ष के लड़के के लिये लोग दो दिन तक बाजार बंद रखे , मैने आज तक नही देखा कि नाते -रिश्तेदारो के साथ 36 कौम का पूरा गांव उमड़ पडे , और हिंदू मुसलमान सबकी आंखो से आन्सुओ के झरने बह रहे हो , मैने आज तक नही देखा कि सान्सद और एम एल ए और प्रधानो को गज्जू के घर पहुचने के लिये भीड़ के बीच रास्ता नही बन पा रहा था ...                
24 साल की उम्र तक , बिना शादी हुए , जिसकी दो चार दिन मे सगाई होने जा रही थी ,जो जीवन मे कुछ देख नही पाया , बी जे पी के माध्यम से जनकार्य को करते हुए , सबका भला कर जो आगे बढता जा रहा था, उसके लिये पूरा केरू रो रहा था .. चला गया , हमारा कितना बडा नुकसान हुआ .. क्या कहे ,
भगवान उनकी आत्मा को शांति दे

7.7.16

पूज्य श्री तुलसारामजी महाराज का 36वां चातुमार्स वर्त समारोह एवं तप साधना

परम पूज्य श्री तुलसारामजी महाराज का 36वां चातुमार्स वर्त समारोह एवं तप साधना श्री खेतेश्वर ब्रह्मधाम तीर्थ ( असोत्रा) ब्रह्मसरोवर पर दिनाक 19 जुलाई 2016 से 16 सितंबर 2016 तक होगा। —  का #Asotra, Rajasthan

6.7.16

युवा दिल की धड़कन गज्जूसिंह राजपुरोहित अब हमारे बीच नही रहे

मण्डोर पंचायत समिति (केरू क्षेत्र)के सदस्य युवा नेता, हर दिल अजीज जनता की आवाज व हमारे परम मित्र युवा दिल की धड़कन गज्जूसिंह राजपुरोहित (गज्जू बन्ना) अब हमारे बीच नही रहे उनका कल दोपहर को आकस्मिक दुर्घटना में निधन हो गया बहुत दुखद घटना केरू का महान सितारा अस्त हो गया

भगवान उनकी आत्मा को शान्ति प्रदान करे एवंम उनके परिवार इस दुख के पहाड़ को सहन करने का क्षमता प्रदान करे ओम शान्ति शान्ति शान्ति

3.7.16

श्री राजपुरोहित शिक्षा न्यास गोवा स्वागत समिति गोवा भव्य स्वागत

श्री राजपुरोहित शिक्षा न्यास : गोवा
स्वागत समिति गोवा भव्य स्वागत और उपरान्त समाज कि मील के पत्थर साबित होने लायक विचार व मंथन प्रतियोगी परिक्षा मे किस प्रकार वातावरण तैयार हो। सहयोग सम्बल किस प्रकार किया जाये। बालिका शिक्षा के महत्व पर बल।

आदरणीय श्री दलपत सिंह जी दिनकर अति. महानिदेशक पुलिस राजस्थान , श्री सुरेश जी मादा महानिरीक्षक पुलिस PHQ केरला , समाज सेवी उधोगपति श्री घनश्याम जी बसन्त आदर्श होटल्स ग्रुप मुम्बई का वैचारिक सानिध्य। मित्र  श्री गजेन्द्र सिंह जी बरना , श्री राजकमल जी रास , श्री कमल राज जी असाडा द्वारा सफल चिन्तन मन्थन मंच साबित हुआ।
समाज शिक्षा के क्षैत्र मे आगे बढ़े ये मनोकामना हे।

News Send By Shri Kishor Singh Rajpurohit

हिंदी में लिखिए अपनी...

रोमन में लिखकर स्पेस दीजिए और थोड़ा सा इंतजार कीजिए .... सुगना फाऊंडेशन-मेघालासिया जैसे :- Ram (स्पेस) = राम
अब इस कॉपी करे और पेस्ट करे...सवाई आगरा

आपका लोकप्रिय ब्लॉग अब फेसबुक पर अभी लाइक करे .



Like & Share

Share us

ट्विटर पर फ़ॉलो करें!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Nivedan Hai