न्यूज़ हेडलाइंस Post

Followers

यह ब्लॉग समर्पित है!

"संत श्री 1008 श्री खेतेश्वर महाराज" एवं " दुनिया भर में रहने वाले राजपुरोहित समाज को यह वेबसाइट समर्पित है" इसमें आपका स्वागत है और साथ ही इस वेबसाइट में राजपुरोहित समाज की धार्मिक, सांस्‍क्रतिक और सामाजिक न्‍यूज या प्रोग्राम की फोटो और विडियो को यहाँ प्रकाशित की जाएगी ! और मैने सभी राजपुरोहित समाज के लोगो को एकीकृत करने का ऐसा विचार किया है ताकि आप सभी को राजपुरोहित समाज के लोगो को खोजने में सुविधा हो सके! आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं तो फिर तैयार हो जाईये! "हमारे किसी भी वेबसाइट पर आपका हमेशा स्वागत है!"
वेबसाइट व्यवस्थापक सवाई सिंह राजपुरोहित-आगरा{सदस्य} सुगना फाऊंडेशन-मेघलासिया जोधपुर 09286464911

मेरे साथ फेसबुक से जुडिए

25.12.16

व्यक्तित्व विकास और युवा संस्कार पुस्तको से आते है - प्रो. आहुआ


बाड़मेर के महाबार गांव में आसोतरा गादीपति श्रीतुलछाराम महाराज के द्वारा प्रारम्भ करवाये गये युवा संस्कार शिविर के दूसरे दिन प्रथम सत्र में कई विशेष विशेषज्ञों द्वारा विभिन्न विषयों पर सैकड़ों की संख्या में हिस्सा ले रहे युवाओं को कई मुद्दों पर जानकारियां दी। इस दौरान व्याख्याता मुकेश पचैरी ने विद्यार्थियों और युवाओं को खास तौर पर अपनी दिनचर्या पर विशेष ध्यान देते हुए व्यक्तित्व विकास की सबसे जरूरी और पहली सीढ़ी पर विचार करने को कहा। उन्होनें कहा कि जहां पर दिनचर्या सही और निरन्तरता हो वहीं व्यक्तित्व विकास की उम्मीद कि जानी चाहिए। उन्होने कहा कि इस तरह के शिविर निश्चित तौर पर युवाओं को विशेष रूप से बेहतर करने की शिक्षा देते है। कार्यक्रम में बोलते हुए जय नारायण व्यास विश्व विद्यालय के प्रोफेसर रामचन्द्र सिंह आहुआ ने व्यक्तित्व विकास एवं संस्कार विषय पर बोलते हुए कहा कि सुसंगति अच्छी पुस्तकों से मिलती है। उन्होने मिसाईल मैन भारत रत्न और पूर्व राष्ट्रपति डॉ. अब्दुल कलाम की पुस्तकों के बारे में चर्चा की। उन्होनें कहा कि अब्दुल कलाम ऊंचे सपने देखने के हिमायती थे और वे जब भी युवाओं, बच्चों से मुलाकात करते वे शिक्षा और विकास की बात करते क्यों कि वे जानते थे कि अभी से युवाओं को शिक्षा के बारे में जागरूक नहीं किया गया तो विकास की अवधारणा खत्म हो जायेगी। 

इससे पहले मंगलाचरण के साथ प्रारम्भ प्रथम सत्र में वैदान्ताचार्य डॉ. ध्यानाराम महाराज ने चर्चा करते हुए कहा कि व्यक्ति में सुशील होने के सारे गुण समाहित होने लगते है और उसके व्यक्तित्व का सर्वांगीण विकास होने लगता है।
इस मौके पर राजपुरोहित समाज के गणमान्य लोग बड़ी तादाद में वहां मौजूद थे।



                         आभार
             बाड़मेर टाइम्स न्यूज़ नेटवर्क |


No comments:

Post a Comment

Thank u Plz Join fb Page
https://www.facebook.com/rajpurohitpage

हिंदी में लिखिए अपनी...

रोमन में लिखकर स्पेस दीजिए और थोड़ा सा इंतजार कीजिए .... सुगना फाऊंडेशन-मेघालासिया जैसे :- Ram (स्पेस) = राम
अब इस कॉपी करे और पेस्ट करे...सवाई आगरा

आपका लोकप्रिय ब्लॉग अब फेसबुक पर अभी लाइक करे .



Like & Share

Share us

ट्विटर पर फ़ॉलो करें!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Nivedan Hai