न्यूज़ हेडलाइंस Post

Followers

यह ब्लॉग समर्पित है!

"संत श्री 1008 श्री खेतेश्वर महाराज" एवं " दुनिया भर में रहने वाले राजपुरोहित समाज को यह वेबसाइट समर्पित है" इसमें आपका स्वागत है और साथ ही इस वेबसाइट में राजपुरोहित समाज की धार्मिक, सांस्‍क्रतिक और सामाजिक न्‍यूज या प्रोग्राम की फोटो और विडियो को यहाँ प्रकाशित की जाएगी ! और मैने सभी राजपुरोहित समाज के लोगो को एकीकृत करने का ऐसा विचार किया है ताकि आप सभी को राजपुरोहित समाज के लोगो को खोजने में सुविधा हो सके! आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं तो फिर तैयार हो जाईये! "हमारे किसी भी वेबसाइट पर आपका हमेशा स्वागत है!"
वेबसाइट व्यवस्थापक सवाई सिंह राजपुरोहित-आगरा{सदस्य} सुगना फाऊंडेशन-मेघलासिया जोधपुर 09286464911

मेरे साथ फेसबुक से जुडिए

14.12.16

गोऋशि श्रीदत्तषरणानंदजी के सानिध्य में‘‘श्रीदतात्रेय जयन्ती एवं वार्शिक पाटोत्सव महोत्सव’ सम्पन्न

गोलासन नंदीषाला में पथमेडा स्वामीजी महाराज सानिध्य में श्रीपथमेडा गोधाम महातीर्थ में गोऋशि स्वामी श्री दत्तषरणानंदजी महाराज के सानिध्य में‘‘श्रीदतात्रेय जयन्ती  एवं वार्शिक पाटोत्सव महोत्सव’ सम्पन्न:-

हजारों गोसेवकों का रैला ऊमडा, गोऋशि स्वामीजी का आषीर्वचन हजारों श्रोताओं ने घंटों मंत्रमुग्ध होकर सुना
गोसेवा के संकल्प नारों से आसमान गुंजायमान हुआ ,गोमहिमा संकीर्तन में गोसेवक  भाव विहृल  होकर झूमे

  श्रीपथमेडा गोधाम महातीर्थ संस्थापक एवं प्रधान संरक्षक गोऋशि स्वामी श्री दत्तषरणानंदजी महाराज के सानिध्य में श्रीदतात्रेय जयन्ती के भव्य आयोजन के साथ वार्शिक पाटोत्सव महोत्सव समपन्न हुआ। प्रातः 6 बजे से ही पं. पुखराज दिवेद्धी एवं डा. ललित दिवेद्धी के आचार्यत्व में राजोपचार षास्त्रीय विधि से भगवान श्री दत्तात्रेय का अभिशेक हुआ। इस दौरान दत्तात्रेय मंदिर में सामूहिक सहस्त्रनाम पाठ में सैंकडों संतों एवं गोसेवकों ने भाग लिया। गोऋशि स्वामी श्री दत्तषरणानंदजी महाराज की ‘‘ भारत गोदर्षन ज्योति यात्रा’’ के कारण लम्बे काल बाद पथमेडा आगमन से गोभक्तों में दर्षन, प्रवचन और आषीर्वाद के प्रति विषेश उत्साह देखते ही बन रहा था।

  श्रीपथमेडा गोधाम महातीर्थ के राश्ट्रीय प्रवक्ता पूनम राजपुरोहित ‘मानवताधर्मी’ ने बताया कि श्री दत्तात्रेय भगवान की जयन्ती व वार्शिक पाटोत्सव पर आयोजित ‘गोसेवा संकल्प सभा’ में उपस्थित हजारों गोभक्तों को गोऋशि स्वामी दत्तषरणानंदजी महाराज ने आषीर्वचन प्रदान किया। बडी संख्या में मुम्बई, कलकत्ता, चैन्नेई, दिल्ली, पंजाब, गुजरात सहित पूरे देष से गोसेवक नर-नारी एवं बच्चे पधारे। गोमहिमा संकीर्तन में हजारों गोसेवक भाव विभोर होकर झूम उठे। गोपरिक्रमा,प्रत्यक्ष गोसेवा,गोभंडारा के पष्चात हजारों गोसेवकों ने पंचगव्य निर्मित महाप्रसाद ग्रहण किया। लग रहा था कि चहुंओर पथमेडा में जैसे हजारों गोसेवकों का रैला ऊमड पडा हो तथा गोसेवा के संकल्प नारों से आसमान गुंजायमान हो रहा था। गोमहिमा काव्य गान, पत्रकारों का अभिनन्दन और गोभक्तोें का सम्मान किया गया

श्रीपथमेडा के पाटोत्सव समापन समारोह में मुख्य मंच से संतों द्वारा सांचोर क्षेत्र के पत्रकारों का गोलासन नंदीषाला घटनाचक्र के दौरान तथ्यात्मक नीर्भिक व निश्पक्ष पत्रकारिता के लिये आषीर्वाद युक्त अभिनन्दन किया गया। संतों ने सभी उपस्थित मीडिया कर्मियों को गोसाहित्य एवं पंचगव्य प्रसाद भेंट कर दुप्पटा पहनाया। इस दौरान गुरूकुल नंदगांव में अध्ययनरत छठी के बालक भरतकुमार ने ‘ऐ हिन्द देष के लोगों सुनलो मेरी दर्द कहानी..’ गीत सुनाकर श्रोताओं की आंखें नम कर दी। मंच से अगली 12 पूर्णिमाओं के लिये गोमहिमा संकीर्तन की बोलियों के यजमानों की घोशणा हुई तथा अनेक गोभक्तों ने बढ-चढकर गोग्रास की घोशणा की। मंच का संचालन श्री अलोक सिंघल एवु मास्टर श्री डूंगराराम बिच्छावाडी ने किया।

गोसेवा संकल्प सभा में बडी संख्या में गोसेवक संतवंृद एवं गणमान्य जन रहे उपस्थित
पथमेडा में श्री दत्तात्रेय जयंती महोत्सव के मंचीय कार्यक्रम में देष भर से बडी संख्या में गोसेवाभावी संत उपस्थित रहे। कार्यक्रम में परम श्रद्धेय गोऋशि स्वामी श्री दत्तषरणानंदजी महाराज,श्री दिनेषगिरिजी महाराज-फतेहपुर षेखावाटी,श्री सीयाबल्लभदासजी महाराज-कटाव धाम,श्री नारायणगिरिजी महाराज पथमेडा,श्री रघुवीरदासजी महाराज-बांसवाडा,जुना अखाडा थानापति श्री रविन्द्र्रानंदजी महाराज-हरिद्वार ,श्री दयाषंकरजी महाराज-बुंदेलखंड ,पं.रामषंकरजी पांडेय-वृंदावन,पांथेवाडा महाराज,श्री रामचंद्रजी महाराज,पं पुखराजजी दिवेद्धी,श्री सत्यनारायणजी महाराज,श्री रामलल्लादासजी महाराज,श्री धर्मानंदजी महाराज डांगावास,संत श्री चैनदासजी महाराज-जोधपुर,श्री गोविन्द वल्लभदासजी महाराज-पथमेडा,श्री सूमनसुलभजी महाराज-नंदगांव,श्री नंददासजी महाराज,श्री अन्नत चैतन्यजी महाराज,श्री बलदेवदासजी महाराज,श्री गणेषजी महाराज आदि संतों का पावन सानिध्य रहा।

इस अवसर पर जालोर जिला प्रमुख श्री बन्नेसिंह गोहिल,सांचोर विधायक विधायक श्री सुखराम विष्नोई, गोलासन नंदीषाला के अध्यक्ष राव श्री मोहनसिंह चितलवाना, भाजपा प्रदेष उपाध्यक्ष एवं समाजसेवी श्री श्रवणसिंह राव,दूरदर्षन दिल्ली के तकनीकी डायरेक्टर श्री ओमप्रकाष राजपुरोहित सहित अनेक गणमान्यों ने परम श्रद्धेय गोऋशि स्वामी श्री दत्तषरणानंदजी महाराज से आषीर्वाद लिया।
सैंकडों वरिश्ठ गोभक्त देष भर से पहुंचे,गोसेवा में पूरजोर जुटने का लिया संकल्प
इस अवसर पर गोऋशि स्वामीजी महाराज के दर्षन कर वर्तमान में गोवंष पर आते जा रहे देषव्यापी संकटों पर मार्गदर्षन प्राप्त करने हेतु देष भर से बडी संख्या में वरिश्ठ गोसेवक कार्यकर्ता पहुंचे। श्रीगोपाल गोवर्धन गोषाला के अध्यक्ष श्री केषाराम सुथार,महामंत्री श्री प्रवीणकुमार पालडी, कोशाध्यक्ष सांवलाराम चैधरी,नंदगांव मनैंजिंग ट्रस्टी श्री रघुनाथसिंह षिवतलाव,रिटा.आरएएस श्री धन्नाराज चैधरी,पथमेडा मनेंजिंग ट्रस्टी श्री भूरसिंह आउवा , परम गोभक्त भामाषाह श्री देवाराम जागरवाल कैलाषनगर ,एडवोकेट श्री हरिषंकर सांथू,आलोक सिंघल बाडमेर, श्री गुमानसिंह नून, श्री हरिषंकर रेवतडा, पथमेडा गोधाम महातीर्थ के राश्ट्रीय प्रवक्ता श्री पूनम राजपुरोहित ‘मानवताधर्मी’,श्री मेघराज मोदी,श्री ष्यामसुन्दर औदिच्य,श्री भाखराराम विष्नोई,श्री चंदनसिंह विरोल,श्री अमराराम माली ,श्री मदनसिंह  लाम्बियां, डा. मदनसिंह सैंगर , बिच्छावाडी सरपंच श्री अम्बाराम,मास्टर डूुंगराराम ,श्री सुरेन्द्रसिंह विश्ट नई दिल्ली,श्री विषनसिंह सांथु, श्री रामनिवास अग्रवाल,श्री अनिलकुमार गुप्ता जयपुर,श्री सुनील जागेटिया भीलवाडा, श्री सत्यनारायण चम्पाखेडी,श्री नरपतसिंह वासनी,श्री कस्तुर भाई जोषी,श्री ओमप्रकाष गर्ग बालोतरा,श्री केवलाराम पालडी,श्री दिनेषकुमार दांतिया,श्री भरतकुमार बसंत,श्री कैलाष राजपुरोहित उदयपुर,श्री मंषाराम दर्जी,श्री चुन्नीलाल खेजडयाली,श्री किषनलाल खत्री,श्री पीराराम हैंडवाडा,श्री गणपत खिरोडी, श्री देवाराम धौरीमन्ना,श्री मदन गोपाल अहमदाबाद,वैध मोहन अग्रवाल,डा. वासुदेव पुरोहित,श्री पुरसिंह डभाल,श्री हरिराम रणोदर,श्री दोलतराम भडवल, मेवाराम राईका,मास्टर पाबुराम विष्नोई,सहित सैंकडों वरिश्ठ गोसेवक कार्यकर्ता सभी कार्यक्रमों में उपस्थित रहे।
हम न किसीके विरोधी एवं न किसी के पक्षधर! गोसेवकों से प्रेम और गोविरोधियों से अप्रियता हमारा स्वभाव !
नेता,षासन व प्रषासन की अपील पर नहीं अपितु एक माह में गोवंष की असहनीय हो चुकी दषा व पीडा के कारण गोलासन की व्यवस्था पुनः संभाली!

राज्य सरकार ‘विजन डोकोमैंट’ में घोशित तथा समय समय पर गोसेवकों से किए सभी वायदों को पूरा करंे!
लाख संकट आये परन्तु एक दिन संपूर्ण गोरक्षा की स्थापना अवष्य होकर रहेगी!


भगवान दत्तात्रेय अत्यन्त दयालु हैं ,वो भक्तों के भक्ति भाव से पुकारने मात्र से सभी कश्ट दूर कर देते हैं!
                 -गोऋशि स्वामी श्री दत्तषरणानंदजी महाराज


श्री दत्तात्रेय जयंती पर्व के मुख्य मंचीय कार्यक्रम को संबोधित करते हुए गोऋशि स्वामी श्री दत्तषरणानंदजी महाराज ने कहा कि हमारा संबध किसी संस्था या स्थान से नहीं होकर केवल गोसेवा-गोरक्षा के कार्य से हैं। उन्होंने स्पश्ट किया कि वो न किसी व्यक्ति,दल,संस्था,नेता आदि के विरोधी हैं और न ही किसी के पक्षधर हैं। हमें तो केवल गोसेवा एवं गोसेवक प्रिय लगते हैं और गोविरोधी का अप्रिय लगना हमारा स्वभाव हैं। उन्होंने कहा कि हमारे जीवन का एकमात्र लक्ष्य इतना ही है कि प्रत्येक व्यक्ति गोसेवा से जुडे तथा गोवंष विरोध जैसा पाप कोई न करें। उन्होंने कहा कि षासन व समाज का कोई भी पक्ष हमारे प्रखरता से गोसेवा-गोरक्षा हेतु

गोसंरक्षण,गोसंवर्धन,गोपालन,पंचगव्य परिश्करण व विनियोग पर नीति ओर कार्य के आग्रह को विरोध मानता है तो ऐसे विरोध से गोभक्तों को कोई डर नहीं है। सही में हम गोभक्तों का केवल वो ही विरोध करते हैं जिन्होंने कभी गोसेवा नहीं की है और गोघातियों से मिले हुए हैं।
गोऋशि स्वामीजी महाराज ने गोलासन नंदीषाला की पथमेडा व पूर्व ट्रस्टमंडल द्वारा पुनः व्यवस्था संभाले जाने पर कहा कि ‘गोसेवकों ने किसी नेता,षासन व प्रषासन की अपील पर व्यवस्था नहीं संभाली है अपितु पिछले एक माह में गोलासन में हजारों गोवंष की असहनीय हो चुकी दषा एवं पीडा के कारण संभाली है। उन्होंने व्यथित भाव से कहा कि गोलासन नंदीषाला के गोवंष के कश्ट का कारण बनने वाले पक्षों को परमात्मा के प्राकृतिक न्याय के अंर्तगत दंड मिलना निष्चित है। पीडित मन से गोऋशि स्वामीजी ने कहा कि कोई भी षासक, दल अथवा सत्ता केंद्र  गाय से विमुख होकर लम्बा नहीं चल सकता है। उन्होंने गोभक्तों की सभा से अपील करते हुए कहा कि ‘सभी का भला इसी में है कि एक-एक नागरिक अपने-अपने सांसद,विधायक,प्रधान,पंच-सरपंच के पास जाकर लौकतान्त्रिक तरीकों से मजबुर करें कि वो गोसेवा-गोरक्षा के कार्य हेतु नीतियां बनावें और इस कार्य हेतु अपने बडे कद के राजनैतिक आकाओं को मनावें। ’

स्वामीजी महाराज ने कठोर षब्दों में राज्य सरकार की नीति रीति पर प्रष्न चिन्ह लगाते हुए कहा कि नेता, अधिकारी व सरकार बतावंे कि लगभग 10 दिन बीत जाने के बाद अब तक सरकार ने 4 दिसम्बर को गोसेवकों से किया कौनसा वचन पूरा किया है। अभी तक नंदीषाला के स्थायी नियमन का सरकारी प्रयास नजर कहीं नहीं आ रहा है,न ही प्रदेष की गोषालाओं के गोवंष हेतु स्थायी अनुदान की घोशणा हुई है,न ही गोलासन में मृत गोवंष के लिए समाधि हेतु भूमि पर प्रषासन ने कोई निर्णय लिया है और न ही कुप्रबंधन से बिगाडे हालातों के सुधार हेतु एकमुष्त सहयोग के वचन पर कुछ हुआ दिखता है। उन्होंने राज्य सरकार के गोवंष पर अनदेखीपूर्ण,असंवेदी एवं उपेक्षित रूख को निराषाजनक करार देते हुए कहा कि लगता है कि ‘ प्रत्यक्ष-अप्रत्यक्ष रूप से कहीं न कहीं सरकार गोघाती तत्वों के दबाव में है या फिर सरकार के कुछ तत्व गोघातियों से  अवष्य ही मिले हुए हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार षीघ््राातिषीघ्र अपने ‘‘विजन डोकोमैंट’’ की घोशणाओं तथा समय समय पर गोसेवकों से किए सभी वायदों को पूरा करंे।

गोऋशि स्वामीजी महाराज ने उपस्थित हजारों गोभक्तों से कहा कि कुछ माह पूर्व देष के प्रधानमंत्री के गोसेवा विरोधी बयाान से देष की गोसेवी संस्थाओं को गोसेवा में मिल रहे जन सहयोग को भारी आघात पहुंचाया। अब तो 8 नवम्बर को मुद्रा बंदी के बाद कोई चाहकर भी गोग्रास सहयोग देने में असमर्थ होकर रह गया है क्योंकि किसी के पास मुद्रा ही नहीं है। इस प्रकार से सरकार ने दान पर वैधानिक बाधाएं खडी कर दी है और गोसेवा के लिए वर्तमान दौर अत्यन्त कठिन हो गया है। उन्होंने प्रखरता से कहा कि ‘धर्म,अध्यात्म,प्रकृति व परमात्मा को मानने वाले आस्थिक गोसेवकों को किसी व्यक्ति,पक्ष,क्षैत्र अथवा पाटी्र्र-दलादि के प्रभाव में आकर अपनी गोसेवा-गोरक्षा की कार्य निश्ठा व संकल्प से समझौता नहीं करना चाहिये। उन्होंने कहा कि गोरक्षा हम सबके पूर्वजों के संस्कार,त्याग व बलिदानों की महान परम्परा रही है ओर इस मानव कल्याणकारी पथ से किसी भी कीमत पर पीछे नहीं हटना चाहिये। स्वामीजी महाराज ने गोभक्तों से आहवान किया कि चाहे लाख संकट आये परन्तु गोसेवा कार्य को कोई भी बुरी ताकत रोक नहीं सकेगी तथा एक दिन संपूर्ण गोरक्षा की स्थापना अवष्य होकर रहेगी।
स्वामी श्री दत्तषरणानंदजी महाराज ने भगवान दत्तात्रोय के कल्पगुरू होने पर प्रकाष डालते हुए कहा कि ‘पूरी संसार को मार्ग दिखाने वाले दत्तात्रेय भगवान ही है। वो कल्पगुरू और भगवान दोनों है तथा विश्णु के छठे अवतार हैं। दत्तात्रेय संसार के पालनकर्ता विश्णु अवतार के साथ साथ सृश्टि के रचियता बह्यमा तथा संहारकर्ता भगवान महादेव भी हैं। उन्होंने कहा कि भगवान श्रीकृश्ण ने कल्पगुय दत्तात्रेय से ही ज्ञानोपदेष लिया था,आदि षंकराचार्य ने भी कांषी में दत्तात्रेय भगवान से ही ज्ञान की प्राप्ति की थी और नाथ संप्रदाय के प्रणेता श्रीगोरखनाथ ने भी गिरनार पर्वत पर दत्तात्रेय से ज्ञान प्राप्त किया था। गोऋशि स्वामीजी महाराज ने कहा कि दत्तात्रेय अवधुत अवस्था में रहते हैं तथा वो किसी को भी किसी भी रूप में मिल सकते हैं। उनका अपना कोई रूप नहीं है और विविध रूपों में विचरण करते रहते हैं और उनका दिव्य स्वरूप इन भौतिक आंखों से देखना संभव नहीं है। दत्तात्रेय भगवान अत्यन्त दयालु हैं और अपने भक्तों द्वारा प्रेमपूर्वक भक्ति भाव से पुकारने मात्र से सभी कश्ट दूर कर देते हैं।’
14 दिसम्बर 10 बजे गोलासन नंदीषाला में पथमेडा स्वामीजी महाराज सानिध्य में बैठक

श्रीपथमेडा गोधाम महातीर्थ के राश्टीªय प्रवक्ता पूनम राजपुरोहित ‘मानवताधर्मी’ के अनुसार गोऋशि स्वामीजी महाराज 14 दिसम्बर को प्रातः 10 बजे गोलासन नन्दीषाला मेंँ विद्यमान लगभग 14 हजाार नंदियों की सेवा-सुश्रुशा के हालातों का निरीक्षण व अवलोकन कर गोसेवकों को मार्गदर्षन बैठक में आषीर्वचन देंगे। पूज्यश्री गोलासन नंदीषाला की व्यवस्थाओं में पूनःस्थापना व सुधारों को लेकर हो रहे कार्यों में गोलासन ट्रस्ट सहित श्रीपथमेड़ा गोधाम द्वारा स्थापित एवं संचालित विभिन्न गोसेवा संस्थाओं के ट्रस्टियों की संयुक्त बैठक को मार्गदर्षन प्रदान करेंगे। गोलासन नंदीषाला बैठक के पष्चात् पूज्य महाराजश्री दोपहर 2 बजे गुजरात सीमा में प्रवेष कर सुईगांव में आयोजित ‘‘गोसेवा संकल्प सभा’’ में आषीर्वाद प्रदान करते हुए श्रीजलाराम हरिधाम गोषाला,भाभर के दर्षन एवं अवलोकन के बाद श्रीराजाराम गोषाला, टेटोड़ा में रात्रि विश्राम करेंगे। 15 दिसम्बर को पूज्यश्री राजाराम गोषाला में आयोजित श्रीमद्भागवत कथा ज्ञान यज्ञ एवं नवनिर्मित श्रीवृन्दावन गोधाम का षुभारम्भ कर वहाँ से पुनः श्रीरामराजा सरकार, ओरछा हेतु प्रस्थान करेंगे।


विषेश रिपोर्ट एवं छाँयाचित्रः- कामधेनु गो-अधिकार न्यूज एंड फीचर्स!संपर्कः- 09414154706
सांचोर,13 दिसम्बर।


No comments:

Post a Comment

Thank u Plz Join fb Page
https://www.facebook.com/rajpurohitpage

हिंदी में लिखिए अपनी...

रोमन में लिखकर स्पेस दीजिए और थोड़ा सा इंतजार कीजिए .... सुगना फाऊंडेशन-मेघालासिया जैसे :- Ram (स्पेस) = राम
अब इस कॉपी करे और पेस्ट करे...सवाई आगरा

आपका लोकप्रिय ब्लॉग अब फेसबुक पर अभी लाइक करे .



Like & Share

Share us

ट्विटर पर फ़ॉलो करें!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Nivedan Hai