न्यूज़ हेडलाइंस Post

Followers

यह ब्लॉग समर्पित है!

"संत श्री 1008 श्री खेतेश्वर महाराज" एवं " दुनिया भर में रहने वाले राजपुरोहित समाज को यह वेबसाइट समर्पित है" इसमें आपका स्वागत है और साथ ही इस वेबसाइट में राजपुरोहित समाज की धार्मिक, सांस्‍क्रतिक और सामाजिक न्‍यूज या प्रोग्राम की फोटो और विडियो को यहाँ प्रकाशित की जाएगी ! और मैने सभी राजपुरोहित समाज के लोगो को एकीकृत करने का ऐसा विचार किया है ताकि आप सभी को राजपुरोहित समाज के लोगो को खोजने में सुविधा हो सके! आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं तो फिर तैयार हो जाईये! "हमारे किसी भी वेबसाइट पर आपका हमेशा स्वागत है!"
वेबसाइट व्यवस्थापक सवाई सिंह राजपुरोहित-आगरा{सदस्य} सुगना फाऊंडेशन-मेघलासिया जोधपुर 09286464911

मेरे साथ फेसबुक से जुडिए

9.1.17

सुश्री उर्मिला राजपुरोहित को विश्वविधायल में गोल्ड मैडल (B. tec .) मिलने पर बहुत बहुत बधाई

प्रमाण पत्र के साथ उर्मिला राजपुरोहित। 

रायथल गांव की उर्मिला ने आंध्रप्रदेश यूनिवर्सिटी से बीटेक में हासिल किया गोल्ड मैडल

जिले के आहोर उपखंड क्षेत्र के रायथल गांव की बालिका ने आंध्रप्रदेश की अनंतपुर में जेएनटीयू यूनिवर्सिटी में बीटेक में गोल्ड मैडल हासिल कर आंध्रप्रदेश के साथ जालोर जिले तथा रायथल गांव नाम रोशन किया है। 

जानकारी के अनुसार रायथल गांव निवासी जोगसिंह राजपुरोहित की पुत्री उर्मिला राजपुरोहित ने आंध्रप्रदेश के करनोल जिले के आलगड़ा में रहने के साथ अनंतपुर की जेएनटीयू यूनिवर्सिटी से बीटेक में गोल्ड मैडल हासिल किया है। जिस पर आंध्रप्रदेश सरकार की ओर से प्रतिभा अवार्ड के तहत बीस हजार रुपए का चैक, टेबलेट एवं प्रशस्ति पत्र प्रदान कर सम्मानित किया गया है। उर्मिला राजपुरोहित ने बताया कि यह प्रेरणा उनके माता पिता से मिली कि माता-पिता शिक्षित नहीं होने से कई सालों पूर्व रोजगार को लेकर मिठाई का कार्य शुरू किया था। माता-पिता की कठिन मेहनत के साथ अपने बच्चों को अध्ययन करने का कहने से हौसला बढ़ा। जोगसिंह के तीन पुत्रियां एवं एक पुत्र है।

जिनमें से बड़ी बहन 12वीं कक्षा पास कर विद्यालय छोड़ दिया तथा दूसरी बहन अनुषा गुजरात के नवसारी में कैनरा बैंक में कार्यरत है। छोटा भाई दशरथसिंह ने 12वीं कक्षा उत्तीर्ण करके पिता के कार्य में हाथ बटोरना शुरू किया है। वहीं उसने बीटेक करने के लिए पिता से इच्छा जताई और पिता ने भी उसका सहयोग किया। उर्मिला ने बताया कि उसका एक ही उद्देश्य था कि बीटेक को टॉप करना है। उसने भास्कर से बातचीत में कहा कि कई समाज में लड़कियों की शिक्षा के प्रति अभी पूरी तरह से सकारात्मक माहौल नहीं बना है, लेकिन अब धीरे-धीरे कई समाजों में यह परिवर्तन रहा है और परिजन अपनी बेटियों को शिक्षित करने की ओर ध्यान दे रहे हैं। उसने इस कामयाबी के पीछे माता-पिता भाई-बहन को श्रेय दिया। 


माता-पिता शिक्षित नहीं, पर बेटियों को पढ़ाई के लिए करते हैं प्रोत्सािहत 

इस मौके पर सुगना फाउंडेशन एव Rajpurohit Samaj India की और से बहिन को बहुत बहुत शुभकामनाये और पूरा समाज आप के उज्वल भविष्य की कामना करता है


No comments:

Post a Comment

Thank u Plz Join fb Page
https://www.facebook.com/rajpurohitpage

हिंदी में लिखिए अपनी...

रोमन में लिखकर स्पेस दीजिए और थोड़ा सा इंतजार कीजिए .... सुगना फाऊंडेशन-मेघालासिया जैसे :- Ram (स्पेस) = राम
अब इस कॉपी करे और पेस्ट करे...सवाई आगरा

आपका लोकप्रिय ब्लॉग अब फेसबुक पर अभी लाइक करे .



Like & Share

Share us

ट्विटर पर फ़ॉलो करें!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Nivedan Hai