न्यूज़ हेडलाइंस Post

Followers

यह ब्लॉग समर्पित है!

"संत श्री 1008 श्री खेतेश्वर महाराज" एवं " दुनिया भर में रहने वाले राजपुरोहित समाज को यह वेबसाइट समर्पित है" इसमें आपका स्वागत है और साथ ही इस वेबसाइट में राजपुरोहित समाज की धार्मिक, सांस्‍क्रतिक और सामाजिक न्‍यूज या प्रोग्राम की फोटो और विडियो को यहाँ प्रकाशित की जाएगी ! और मैने सभी राजपुरोहित समाज के लोगो को एकीकृत करने का ऐसा विचार किया है ताकि आप सभी को राजपुरोहित समाज के लोगो को खोजने में सुविधा हो सके! आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं तो फिर तैयार हो जाईये! "हमारे किसी भी वेबसाइट पर आपका हमेशा स्वागत है!"
वेबसाइट व्यवस्थापक सवाई सिंह राजपुरोहित-आगरा{सदस्य} सुगना फाऊंडेशन-मेघलासिया जोधपुर 09286464911

मेरे साथ फेसबुक से जुडिए

3.6.12

राजपुरोहित का परिचय


रा - राज कार्य
ज - जरूरिया आवश्यक  
पु - पुरुषार्थ 
रो - रोष या जोश 
ही - हितेषी (हित करने वाला)
त - तलवार धावक


    "राजपुरोहित" अर्थात वह व्यक्ति  जो राज कार्य में दक्ष लेता हो तथा  जरुरी या आवश्यक या पुरुषार्थ के कार्य को अथवा जोश के साथ कर सके जिसमे सभी का हित हो एवं आवश्यकता पड़ने पर तलवार भी धारण कर लेता है ,राजपुरोहित कहलाता है "पुरोधसा च मुख्य माँ विदि पार्थ बर्हस्पतिम |"श्री कृष्ण ने गीता का उपदेश देते हुए अर्जुन को राजपुरोहित की महता बताते हुए कहा था की हे अर्जुन पुरोहित में देवताओ के  बर्हस्पति मुझे जान " चुकी  बर्हस्पति देवताओ के गुरु के गुरु थे और वह राजपुरोहित थे | पृथ्वी की रचना होने एव देव -उत्पति से लेकर वर्तमान युग तक राजपुरोहित का स्थान सदा श्रेष्ठ रहा है रजा का समंध राज से होता है किन्तु उससे भी बढ़कर स्थान राजपुरोहित का रहा है अत इस श्रेष्ठ कुल में जन्म लेने वाले को गर्व होना चाहिए की "में राजपुरोहित हु " प्रजापति का सर्वोस गुरु ही राजपुरोहित होता था तथा दुसरे शब्दों में राज्य की सम्पूर्ण जिम्मेदारी राजपुरोहित की होती थी | जब राजा अत्याचारी हो जाता था तब उन्हें पद से मुक्त करने की जिम्मेदारी भी राजपुरोहित की होती थी|


  भेजने वाले :- श्री दिनेश सिंह राजपुरोहित जी  भिंडाकुआ 




नोट :- आप अपनी रचनाओं को sawaisinghraj007@gmail.com पर मेल करें उन्हें एक ब्लॉग सबका प्रकाशित किया जायेगा..सवाई सिंह (सिया)

11 comments:

  1. राज पुरोहित

    रा--- राष्ट्र के लिए

    ज---जन हित में

    पु---पूर्ण रूप से

    रो---रोज नये

    हि---हित कार्य करने के लिए

    त---तत्पर रहने वाला............... राज पुरोहित

    जय रघुनाथ जी री सा.

    ReplyDelete
  2. बहुत ही बढि़या ...

    ReplyDelete
  3. मेरे ब्लॉग पर आपका हार्दिक स्वागत है।

    ReplyDelete
  4. sabhi hai rajpurohitji

    ReplyDelete
  5. आप सभी साथियों का धन्यवाद और आभार

    ReplyDelete

Thank u Plz Join fb Page
https://www.facebook.com/rajpurohitpage

हिंदी में लिखिए अपनी...

रोमन में लिखकर स्पेस दीजिए और थोड़ा सा इंतजार कीजिए .... सुगना फाऊंडेशन-मेघालासिया जैसे :- Ram (स्पेस) = राम
अब इस कॉपी करे और पेस्ट करे...सवाई आगरा

आपका लोकप्रिय ब्लॉग अब फेसबुक पर अभी लाइक करे .



Like & Share

Share us

ट्विटर पर फ़ॉलो करें!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Nivedan Hai