न्यूज़ हेडलाइंस Post

Followers

यह ब्लॉग समर्पित है!

"संत श्री 1008 श्री खेतेश्वर महाराज" एवं " दुनिया भर में रहने वाले राजपुरोहित समाज को यह वेबसाइट समर्पित है" इसमें आपका स्वागत है और साथ ही इस वेबसाइट में राजपुरोहित समाज की धार्मिक, सांस्‍क्रतिक और सामाजिक न्‍यूज या प्रोग्राम की फोटो और विडियो को यहाँ प्रकाशित की जाएगी ! और मैने सभी राजपुरोहित समाज के लोगो को एकीकृत करने का ऐसा विचार किया है ताकि आप सभी को राजपुरोहित समाज के लोगो को खोजने में सुविधा हो सके! आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं तो फिर तैयार हो जाईये! "हमारे किसी भी वेबसाइट पर आपका हमेशा स्वागत है!"
वेबसाइट व्यवस्थापक सवाई सिंह राजपुरोहित-आगरा{सदस्य} सुगना फाऊंडेशन-मेघलासिया जोधपुर 09286464911

मेरे साथ फेसबुक से जुडिए

14.9.12

संत श्री 1008 श्री आत्मानन्दजी महाराज का संक्षिप परिचय by सवाई सिंह


पूरा नाम :- संत श्री 1008 श्री शिक्षा सारथि स्वामी आत्मानन्द सरस्वती जी महाराज 

जन्म का नाम :- अचल सिंह
 
जन्म तारीख 3 सितंबर, 1924 (विक्रम सम्वत  सुक्लापक्सा  भाद्रपद चतुर्थी १९८१ - बुधवार)

पिता श्री. जी देवीसिंह राजपुरोहित गुन्देचा (गुन्देशा)

माता का नाम :- श्रीमती मंगु देवी

जन्म स्थान :- बारवा गांव

तहसील:-बाली  

जिला - पाली (राजस्थान)

गुरु का नाम :- श्री जगद्गुरु शंकराचार्य के शिष्य श्री 1008 श्री अनंत महाराज ज्योतिपीठ शांतानंद सरस्वतीजी 

संत श्री 1008 श्री शिक्षा सारथि स्वामी आत्मानन्द सरस्वती जी महाराज ने अपने यौवन काल से ही एक ऊंचे और तपस्वी का जीवन व्यतीत किया है! नियम और व्रतों का पालन जिस श्रद्धा और कड़ाई से ये करते हैं वैसा हमने आज तक दूसरे किसी व्यक्ति को नहीं करते देखा ! जिन लोगों ने संत श्री को निकट से देखा है वे इस बात की सत्यता से भलीभांति परिचित होंगे! संत श्री बहु प्रतिभा के धनी हैं! इनका जीवन प्रारम्भ से ही कर्ममय रहा है और बालकों की शिक्षा की तरह ही कन्याओं की शिक्षा पर भी बहुत बल दिया है! 
  
विशेषता:- 
<------------------->
महान कर्मयोगी, सरस्वती जो राजपुरोहित समाज में शिक्षा क्षेत्र असीम योगदान ."अध्यात्मिक महापुरुष " घोर तपस्वी , संत श्री द्वारा सुंदर वक्ताओं ने शिक्षा के क्षेत्र के विकास में सामाजिक हॉस्टल का गठन और आपको को शिक्षा विद के नाम से जाने जाते है क्योकि आपने हॉस्टल राजपुरोहित जालोर, पाली (मारवाड़ , फलना, रानीवाडा , कलंदरी, जोधपुर (तीसरा  विस्तार), सिरोही, भीनमाल और अहोरे और राजपुरोहित समाज के भवन भवंस - सांचौर , सिरोही, कलंदरी , पाली, निम्बेश्वर आदि समाज के कई जगह आज हॉस्टल पर संत श्री के नाम से भी प्रमुख स्थानों में विकसित कर रहे हैं.
पुरानी झील और महादेव मंदिर का भी निर्माण किया है आपने कई गौशाला के विकसित किया है संत श्री श्री 1008 श्री  आत्मानन्द जी महाराज की समाधि जालौर में है!

यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो फालोवर(Join this site)अवश्य बने. साथ ही अपने सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ. यहां तक आने के लिये सधन्यवाद.... BY सवाई सिंह राजपुरोहित आगरा (मेघलासिया)

No comments:

Post a Comment

Thank u Plz Join fb Page
https://www.facebook.com/rajpurohitpage

हिंदी में लिखिए अपनी...

रोमन में लिखकर स्पेस दीजिए और थोड़ा सा इंतजार कीजिए .... सुगना फाऊंडेशन-मेघालासिया जैसे :- Ram (स्पेस) = राम
अब इस कॉपी करे और पेस्ट करे...सवाई आगरा

आपका लोकप्रिय ब्लॉग अब फेसबुक पर अभी लाइक करे .



Like & Share

Share us

ट्विटर पर फ़ॉलो करें!

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Nivedan Hai