न्यूज़ हेडलाइंस Post

Followers

यह ब्लॉग समर्पित है!

"संत श्री 1008 श्री खेतेश्वर महाराज" एवं " दुनिया भर में रहने वाले राजपुरोहित समाज को यह वेबसाइट समर्पित है" इसमें आपका स्वागत है और साथ ही इस वेबसाइट में राजपुरोहित समाज की धार्मिक, सांस्‍क्रतिक और सामाजिक न्‍यूज या प्रोग्राम की फोटो और विडियो को यहाँ प्रकाशित की जाएगी ! और मैने सभी राजपुरोहित समाज के लोगो को एकीकृत करने का ऐसा विचार किया है ताकि आप सभी को राजपुरोहित समाज के लोगो को खोजने में सुविधा हो सके! आप भी इसमें शामिल हो सकते हैं तो फिर तैयार हो जाईये! "हमारे किसी भी वेबसाइट पर आपका हमेशा स्वागत है!"
वेबसाइट व्यवस्थापक सवाई सिंह राजपुरोहित-आगरा{सदस्य} सुगना फाऊंडेशन-मेघलासिया जोधपुर 09286464911

न्यूज़ हेडलाइंस

न्यूज़ हेडलाइंस LATEST: Sawai Singh Rajpurohit

10.1.13

गाव भिंडाकुआ की स्थापना गांव की जानकारी

 गाव भिंडाकुआ की स्थापना
 गोत्र के राजपुरोहित कनोज से राजस्थान में आए और जोधपुर के पास सियोदा नामक गाव बसाया |वहा पर चारण जाती से विवाद हो गया | वहा पर सिया राजपुरोहितो ने गोदारा(श्राप) डाल कर बारमेर जिले की सिवाना तहसील के कुशिप गाव में आकर डेरा डाला |वहा पर सोढा राजपूतो से झगडा हो गया |कुशिप गाव छोड़कर किटनोद के पास बाहमनी भाकरी के पास अपना गाव बछाया कई सालो बाद तक वहा निवास करते रहे वहा पर किटनोद ठाकुर करनोत जाती के राजपूतो से गायो के लिए विवाद हो गया |तो सिया जाती के पुरोहितो ने वहा के ठाकुर को श्राप देकर वहा से रवाना हो गये | किटनोद के पास वैशाख शुक्ल सातम विक्रम सवत १४८५ में भिंडाजी S/o थारजी सिया राजपुरोहित ने गाव की स्थापना की | वहा पर भिंडाजी ने एक कुआ खोदा जिससे गाव का नाम भिंडाकुआ पड़ा|सवत १४८५ में कुआ के पास में माँ चामुंडा का मंदिर बनाया गया उस समय गाव में मात्र ८-१० घर थे | जबकि सन २०१२ में वंशज बढ़कर १२५-१३० हो गये है उसके पश्यात माँ चामुंडा का भव्य मंदिर की नीव श्री श्री 1008 खेताराम जी महाराज के हाथो लगाई गई | ततपश्यात मंदिर का निर्माण का कार्य श्री 1008 श्री तुलसाराम जी महाराज के देख रेख में संपन हुआ  | माँ चामुंडा की संगमरमर के पत्थर की सिंह पर सवार प्रतिमा बनाई गई बाद में गाव गोलिया में खेताराम जी
महाराज , शिवजी ,लक्ष्मीनारायण , राधाकिशन और हनुमान जी और गोगाजी एवं कुल देवता जुंझार जेहराम सिंह जी का स्थान भी है दाता खेताराम जी की सगाई भी गाव भिंडाकुआ में की गई थी |


                                          लेखक--अशोक सिंह राजपुरोहित सिया गोलिया

यदि हमारा प्रयास आपको पसंद आये तो फालोवर(Join this site)अवश्य बने. साथ ही अपने सुझावों से हमें अवगत भी कराएँ. यहां तक आने के लिये सधन्यवाद.... आपका सवाई सिंह राजपुरोहित

No comments:

Post a Comment

thank u dear
Join fb Page
https://www.facebook.com/rajpurohitpage

हिंदी में लिखिए अपनी...

रोमन में लिखकर स्पेस दीजिए और थोड़ा सा इंतजार कीजिए .... सुगना फाऊंडेशन-मेघालासिया जैसे :- Ram (स्पेस) = राम
अब इस कॉपी करे और पेस्ट करे...सवाई आगरा

एक सुचना

एक सुचना

Share us

Related Posts Plugin for WordPress, Blogger...

Contact me